भगवान श्री कृष्णा देते है पशु पक्षी से प्रेम रखने की प्रेरणा

||PAYAM E RAJASTHAN NEWS|| 02-OCT-2023 || अजमेर || 04.10.2023 पशु कल्याण दिवस है और हमारे आराध्य भगवान श्री कृष्णा ने गोकुल में संकट के समय गोवर्धन पर्वत के निचे सभी पशु पक्षियों को जगह दी थी , गायों को बासुरी सुनते थे और मोर पख को माथे पर सजाया था , क्यों न हम भी उनसे प्रेरणा ले और सभी पशु पक्षियों को अपनाये और उनको समाज में उनका स्थान दे l आज मनुष्य जंगल, पहाड़ , तालाब , नदियां सब पर अपना हक़्क़ जमा रहा है और उन मूक पशुओं को अपने घर से बाहर निकलना पड़ रहा है और बाहर निकलने की सजा मृत्यु है l आज प्रेरणा फाउंडेशन फॉर एनिमल वेलफेयर आपसे कुछ पशु पक्षियों के अधिकार की जानकारी दे रही l 1. आर्टिकल 51 ए में सभी नागरिकों का मौलिक कर्त्तव्य है की वो पशु पक्षियों को खाना दे और उनका ख्याल रखे l 2. आर्टिकल 48 ए में सरकार की जिम्मेदारी है की वो पर्यावरण , जंगल और वन जीवन को संरक्षण दे व सुधारे l 3.आर्टिकल 19 में हमे पर्यावरण को सुरक्षा देने का मौलिक अधिकार दिया है और पर्यावरण में पशु पक्षी भी आते है l 4.आर्टिकल 25,26,27,28 में धार्मिक स्वतंत्रता का अधिकार मिला है और कुछ धर्मो में पशु पक्षियों को खाना खिलने के बारे में लिखा है तो इसी प्रकार हमे अधिकार मिला है की हम पशुओं को भोजन करवा सकते है l 5.सेक्शन 11 के तहत अगर को व्यक्ति पशुओं के साथ क्रूरता करता तो उसे अपराध की श्रेणी में रखा गया है l 6. सेक्शन 506 IPC के तहत जानवरों को खाना खिलने वालों को डरना , परेशान व प्रताड़ित करना अपराध की श्रेणी में आता है l 7. सेक्शन 428 और 429 के तहत किसी जानवर को मरना, जहर देना व अपंग बनाने की शरारत करना अपराध की श्रेणी में आता है l माननीय सुप्रीम कोर्ट के आदेश 2009 के अनुसार किसी भी स्वान को अपने स्थान से स्थान्तरित नहीं किया जा सकता , ये दंडनीय अपराध है सिर्फ इलाज और वैक्सीन के लिए उसे हटाया जायेगा और इलाज के बाद उससे उसी स्थान पर छोड़ने का आदेश है l पशु पक्षी जैसे बन्दर, कछुवा , मोर , तोता आदि वन जीवन संरक्षण में आते है इन्हे घर पर पलना अपराध की श्रेणी में आता है l पशुओं की संख्या को नियंत्रित करने के लिए पशु जन्म नियंत्रण नियम बनाया है , पर उन्हें मारना अपराध है l हम सब ने अपने रहने के लिए पशु पक्षियों का घर छीना है इसलिए हमे कोशिश करनी चाहिए की हम उनके साथ रहने की कोशिश करे और उन्हें भी समाज में अपनाये l "महात्मा गांधी ने प्रसिद्ध रूप से कहा था, 'किसी राष्ट्र की महानता और उसकी नैतिक प्रगति का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि वहां जानवरों के साथ कैसा व्यवहार किया जाता है।' आज मैं अधिवक्ता प्रेरणा सचिन यादव आप सभी से निवेदन करती हु की सभी छोटे या बड़े पशु या पक्षियों को सम्मान प्रेम दे , क्यूंकि सिर्फ गौ सेवा से नहीं जीव सेवा से पुण्य प्राप्त होगा l

Comments

Popular posts from this blog

विवादों के चलते हों रही अनमोल धरोहर खुर्द बुर्द व रिश्ते तार तार

अग्रसेन जयंती महोत्सव के अंतर्गत जयंती समारोह के तीसरे दिन बारह अक्टूबर को महिला सांस्कृतिक प्रतियोगिताएं संपन्न

पूज्य सिंधी पंचायत और भारतीय सिंधु सभा के संयुक्त तत्वाधान में बाल संस्कार शिविर का आयोजन