31 अगस्त को केजरीवाल व भगवंत मान राजस्थान में -मुकेश अहलावत

||PAYAM E RAJASTHAN NEWS|| 26-AUG-2023 || अजमेर || आप के राष्ट्रीय संयोजक अरविंद केजरीवाल और पंजाब के सीएम भगवंत मान 31 अगस्त को जनता को गारंटी देने जयपुर आ रहे हैं जिसको लेकर कार्यक्रम की रूपरेखा तैयार करने व अजमेर कार्यकर्ताओं से संवाद करने आम आदमी पार्टी राजस्थान प्रदेश सह प्रभारी, अजमेर संभाग प्रभारी व दिल्ली सुल्तानपुर विधायक मुकेश अहलावत शुक्रवार सुबह अपने दो दिवसीय दौरे पर अजमेर स्थित सर्किट हाउस पहुंचे। अजमेर संभाग प्रभारी व दिल्ली सुल्तानपुर विधायक मुकेश अहलावत - किशनगढ़, पुष्कर, मसूदा, नसीराबाद विधानसभा के कार्यकर्ताओं से संवाद कर व क्षेत्र वासियों से जनसंपर्क किया। *आप राजस्थान प्रदेश सह प्रभारी, अजमेर संभाग प्रभारी व दिल्ली सुल्तानपुर विधायक मुकेश अहलावत* ने राजस्थान के विकास को लेकर कांग्रेस और बीजेपी को घेरा। उन्होंने कहा कि जब से प्रदेश में अशोक गहलोत की सरकार बनी है तब से सरकार ने 5000 करोड़ का कर्ज ले लिया उसके बावजूद जनता पानी, सड़क, बिजली से परेशान है प्रदेश के मुख्यमंत्री जवाब दें कि आखिर कर्ज लिया हुआ पैसा कहां खर्च हुआ प्रदेश के मुख्यमंत्री पेपरलीक जैसे मामले रोकने में भी असफल रहे हैं इसलिए आगामी 31 अगस्त को आप के राष्ट्रीय संयोजक अरविंद केजरीवाल और पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान जी राजस्थान की जनता को गारंटी देने जयपुर आ रहे हैं इसके बाद राजस्थान की जनता तय करेगी कि उसे सकारात्मक राजनीति करके शिक्षा, रोजगार, भ्रष्टाचार को खत्म करने वाली सरकार चाहिए या फिर भ्रष्टाचार में डूबी हुई सरकार। *आप राजस्थान प्रदेश सह प्रभारी मुकेश अहलावत* ने कहा कि आज राजस्थान की सबसे बड़ी समस्या बिजली कटौती की है बिजली के नाम पर सरकार ने लगातार जनता को लूटने का काम किया है बिजली खऱीदी के नाम पर भी सरकार ने लगातार जनता को लूटने का काम किया है।2021 में सरकार ने 8 से 9 रुपए यूनिट की बिजली अडानी से खरीदी जबकि राजस्थान में बिजली बनती है 3 से 4 रुपए में सरकार का कॉन्ट्रैक्ट है। 2022 में सरकार ने 12 रुपए यूनिट के हिसाब से बिजली खरीदी गई जबकि 4.50 रुपए में कॉंन्ट्रैक्ट है। 2023 में सरकार ने जनता को सरचार्ज के नाम पर भी लूटा। राजस्थान सरकार ने सरचार्ज के नाम पर नाम पर 2019-20 में 1200 करोड़ रुपए वसूले, 2021 में 941 करोड़ और 2022 में 804 करोड़ रुपए वसूले। राजस्थान सरकार ने तीन महीने पहले एक साथ 3 महीने की वसूली कर ली उसके बावजूद भी विद्युत कंपनियां घाटे में चल रही हैं। उन्होंने कहा कि 2015 में 70 हजार करोड़ का घाटा था 2023 में 1 लाख 23 हजार करोड़ का घाटा बिजली कंपनियां दिखा रही हैं सवाल ये है कि जब बिजली आ नहीं रही है तो फिर कंपनियां घाटे में कैसे चल रही हैं ? आम आदमी पार्टी इस मामले की जांच की मांग करती है। *मुकेश अहलावत* ने बताया कि आम आदमी पार्टी स्कूल और बिजली जैसी समस्याओं को लगातार उठा रही है लेकिन सरकार के कान में जूं तक नहीं रेंग रही है। जो कि प्रदेश की हठधर्मी सरकार की मानसिकता दर्शाने के लिए काफी है लेकिन आम आदमी पार्टी चुप नहीं बैठेगी और लगातार जमीनी स्तर की सच्चाई जनता के सामने लाती रहेगी।

Comments

Popular posts from this blog

गुलाम दस्तगीर कुरैशी की पुत्री मनतशा कुरैशी ने 10 वीं बोर्ड में 92.8 प्रतिशत अंक प्राप्त कर किया नाम रोशन

अजमेर उत्तर के दो ब्लॉकों की जम्बो कार्यकारिणी घोषित

विवादों के चलते हों रही अनमोल धरोहर खुर्द बुर्द व रिश्ते तार तार