घर के पूत क्वांरे डोले पडोसियों के फैरे, लो फिर आ गये तिब्बती और बाहर के व्यापारी मेरे अजमेर शहर के व्यापारियों के पेट पर लात मारने -- राजेश टंडन

||PAYAM E RAJASTHAN NEWS|| 23-NOV-2022 || अजमेर || *प्रसंग वश* *घर के पूत क्वांरे डोले पडोसियों के फैरे* *लो फिर आ गये तिब्बती और बाहर के व्यापारी मेरे अजमेर शहर के व्यापारियों के पेट पर लात मारने* *अजमेर हित में कुछ सोचो मेरे शहर वासियों।* *जैसे ही सर्दियां शुरू होती हैं वैसे ही शहर में भारी कीमतों पर किराया देकर जगह जगह तिब्बत मार्केट और काशमीरी मार्केट खुल जाते हैं और ये तिब्बती और खानाबदोश प्रवृत्ति के व्यापारी अजमेर में आ कर बडे बडे गर्म कपड़ों के टेम्परेरी शो रूम खोल देते हैं और पुरा शहर इनसे गर्म ,ठंडे कपडे खरीदने उमड पडता है ।* *ये तिब्बती ना तो सेल टैक्स या G S T देते हैं और ना कोई अन्य टैक्स जैसे Income Tax , कमर्शियल बिजली का बिल या कोई नगर निगम का तहबाजारी शुल्क और ना ही ये कोई अग्नि शमन यंत्र रखते हैं और ना ही सेनेटाइजर ,मास्क , की पालना आदि करवाते हैं संबंधित विभाग इनसे ऊपर की ऊपर अपनी रोज की बंधी ले जाते हैं ना तो इन्हें कोई पार्किंग के लिए टोकता है और ना कोई रोकता है और ना ये गृह कर देते हैं और ना ही कोई चुगीं या अन्य किसी किस्म का टैक्स देते हैं विडियो कोच बसों से और ट्रेनों से गांठें की गांठे बांध कर लाते हैं रेल्वे राजकीय पुलिस और संबंधित विभागों को नियमित रूप से माल के स्लीपर कोच में लदान का पैसा देते हैं और ट्रैफिक पुलिस तो विडिओ कोचों से नियमित रूप से पैसे शहर में विडिओ कोच खडे करने के मोटे पैसे लेती ही हैं वर्षों से🐒🙊🙉🙈🐵।* *अब जो व्यापारी अजमेर में शहर में कपडे की दुकानें खोल कर बैठे हैं बेचारे दुकानों का किराया देते हैं और बिजली के कमर्शियल बिल देते हैं , नौकरों बारह महीने तन्ख्वाह देते हैं शहर के विकास में हर तरह का टैक्स व सहयोग देते हैं , इनकमटैक्स , सेलटैक्स देते हैं उनके पेट पर ये लुटेरे बाहर के व्यापारी और तिब्बती हमारे शहर के लोकल व्यापारियों के बच्चों के पेट पर लात मार कर सालभर का उनका धंधा खराब कर चले जाते हैं और बेचारे लोकल व्यापारी मुंह ताकते रह जाते हैं क्योंकि सरकारी तंत्र की उन बाहरी व्यापारियों पर तो कोई सख्ती होती ही नहीं है ।* *मेरी जिला प्रशासन व नगर निगम प्रशासन से तथा टैक्स विभाग के अधिकारियों से अपील है कि अजमेर के व्यापारियों से चंद पैसों के चक्कर में सौतेला व्यवहार नहीं करें और इन तिब्बतियों से चंदामामा नहीं लें और इन पर भी कानून सम्मत कार्यवाही करने के लिये अपने अधीनस्थों को आदेशित करें तथा शहर वालों से भी विनती है कि इन बाहरी लोगों से बिना गारंटी वारंटी का पता कहाँ का बना माल नहीं खरीदें क्योंकि तिब्बत में तो कुछ भी बनता नहीं है वो तो हमारे यहां शर्णार्थियों का जीवन यापन कर रहे हैं और पंजाब से लुधियाना से टैक्स चोरी का माल ला तथा एक्साइज ड्यूटी चोरी का माल ला कर यहां बेच रहे हैं प्लीज़ उसे मत खरीदो अपने शहर के लोकल व्यापारियों का माल खरीदो अपना लोकल व्यापारी बेचारा कहाँ जायेगा खाने कमाने।* *आपका अपना राजेश टंडन वकील अजमेर ।*

Comments

Popular posts from this blog

विवादों के चलते हों रही अनमोल धरोहर खुर्द बुर्द व रिश्ते तार तार

अग्रसेन जयंती महोत्सव के अंतर्गत जयंती समारोह के तीसरे दिन बारह अक्टूबर को महिला सांस्कृतिक प्रतियोगिताएं संपन्न

पूज्य सिंधी पंचायत और भारतीय सिंधु सभा के संयुक्त तत्वाधान में बाल संस्कार शिविर का आयोजन