जब भी नफ़रत का बीज बोया है, ख़ून बरसा है इन फ़ज़ाओं से-- ग़ज़ल शकूर अनवर

||PAYAM E RAJASTHAN NEWS|| 14-NOV-2022 || अजमेर || ग़ज़ल शकूर अनवर कुछ न होगा तेरी सदाओं* से। कोई लौटा नहीं ख़लाओं* से।। * और गुज़रोगे तुम ख़ताओं से। कुछ न पाओगे पेशवाओं* से।। * जब भी नफ़रत का बीज बोया है। ख़ून बरसा है इन फ़ज़ाओं से।। * हाय इस दौर की मसीहाई*। लोग मरने लगे दवाओं से।। * मिन्नते नाख़ुदा* न कर "अनवर"। ख़ुद को महफ़ूज़ रख हवाओं से।। * शकूर अनवर सदाओं*आवाज़ देना ख़लाओं* शून्य पेशवाओं*मार्ग दर्शक मसीहाई*चिकित्सा इलाज मिन्नते ना ख़ुदा*मल्लाह से प्रार्थना करना

Comments

Popular posts from this blog

विवादों के चलते हों रही अनमोल धरोहर खुर्द बुर्द व रिश्ते तार तार

अग्रसेन जयंती महोत्सव के अंतर्गत जयंती समारोह के तीसरे दिन बारह अक्टूबर को महिला सांस्कृतिक प्रतियोगिताएं संपन्न

23 जुलाई रविवार को जयपुर में होने वाले अग्र महाकुंभ में अजमेर से भारी संख्या में शामिल होंगे अग्रवाल बंधु व मातृशक्ति