चाहे कहीं से आये पंछी, लगते नहीं पराये पंछी -- ग़ज़ल शकूर अनवर

||PAYAM E RAJASTHAN NEWS|| 18-NOV-2022 || अजमेर || ग़ज़ल शकूर अनवर चाहे कहीं से आये पंछी।। लगते नहीं पराये पंछी।। * उसका मन भी कोमल होगा। जिसके मन को भाये पंछी।। * मौसम के बंजारे बनकर। पर्वत पार से आये पंछी।। * हमको अपने भोलेपन का। आईना दिख लाये पंछी।। * इन्सानों की नीयत खोटी। कैसे ऑंख मिलाये पंछी।। * गंतव्यों की चाह तो देखो। बस उड़ता ही जाये पंछी।। * दूर किसी सुनसान खॅंडर में। अपना शहर बसाये पंछी।। * काबा काशी छोड़ के "अनवर"। मेरी छत पर आये पंछी।। * शकूर अनवर

Comments

Popular posts from this blog

बिश्नोई समाज द्वारा दुबई में आयोजित अंतरराष्ट्रीय पर्यावरण सम्मेलन अभूतपूर्व सफलता के साथ सम्पन्न

गुलाम दस्तगीर कुरैशी की पुत्री मनतशा कुरैशी ने 10 वीं बोर्ड में 92.8 प्रतिशत अंक प्राप्त कर किया नाम रोशन

अजमेर उत्तर के दो ब्लॉकों की जम्बो कार्यकारिणी घोषित