वृक्षारोपण मैं गोल्डन बुक ऑफ रिकॉर्ड मैं सहयोगअर्थ दर्ज हुआ जवाहर फाउंडेशन का नाम

||PAYAM E RAJASTHAN NEWS|| 07-AUG-2022 || अजमेर || आज गजाधर मानसिंह धर्मशाला में संचालित जवाहर फाउंडेशन की रसोई स्वाभिमान भोज में अवलोकन हेतु पहुंचे सीजीएसटी इंस्पेक्टर राजेश कुमावत।                     गौरतलब बात है की विश्व पर्यावरण दिवस पर जवाहर फाउंडेशन के सहयोग से राजेश कुमावत के द्वारा हीरानी ग्राम पंचायत कुचामन नागौर में एक साथ 650 बरगद के पेड़ और सोलर प्लांट लगाया गया  इस अवसर पर जवाहर फाउंडेशन के द्वारा वृक्षारोपण कार्यक्रम किया गया गोल्डन बुक ऑफ रिकॉर्ड में दर्ज हुआ इस कार्यक्रम का विवरण और संस्था द्वारा जवाहर फाउंडेशन को भी जारी किया गया सहयोग का प्रमाण पत्र  इस प्रमाण पत्र के माध्यम से फाउंडेशन द्वारा चलाई गई हरित क्रांति के कार्यक्रम को सबल मिलेगा और अन्य संस्थाओं के लिए प्रोत्साहन का कार्य करेगा  इस अवसर पर सीजीएसटी इंस्पेक्टर राजेश कुमावत ने स्वाभिमान भोज का अवलोकन किया तथा संस्थापक अध्यक्ष रिजु झुनझुनवाला के सहयोग की प्रशंसा की उन्होंने कहा जवाहर फाउंडेशन के सहयोग के बिना यह रिकॉर्ड कायम  नहीं हो सकता था इसलिए फाउंडेशन भी रिकॉर्ड अभियान का बराबर का हिस्सेदार।                                 इस अवसर पर एलएनजे ग्रुप के ओएसडी  रजनीश वर्मा, जवाहर फाउंडेशन के भीलवाड़ा प्रभारी अतुल यादव, मिस् टीन वर्ल्ड 2019 विजेता भूमिका शर्मा, निगम पार्षद योगेश सोनी, पूर्व पार्षद ज्ञानमल खटीक, डीएमएफटी सदस्य हाँरुण  रंगरेज, राजेंद्र शर्मा, मोहम्मद रफीक शेख  मुकेश नारायणीवाल ,मोहन सिंधी, राजकुमार जैन ,काँग्रेस प्रत्याशी एमपी सिंह पूर्वांचल ट्रस्ट के डॉ अशोक सिंह ,श्रीमती उषा अग्रवाल आदि मौजूद थे।  इस अवसर पर कवि रोनी ने कविता के माध्यम से सभी को प्रोत्साहित किया  इस अवसर पर फाउंडेशन के नाम जारी प्रशस्ति पत्र एलएनजे ग्रुप के ओएसडी रजनीश वर्मा को प्रस्तुत की गई और आगे भी निरंतर सामाजिक कार्य जारी रखने का संकल्प लिया

Comments

Popular posts from this blog

विवादों के चलते हों रही अनमोल धरोहर खुर्द बुर्द व रिश्ते तार तार

अग्रसेन जयंती महोत्सव के अंतर्गत जयंती समारोह के तीसरे दिन बारह अक्टूबर को महिला सांस्कृतिक प्रतियोगिताएं संपन्न

23 जुलाई रविवार को जयपुर में होने वाले अग्र महाकुंभ में अजमेर से भारी संख्या में शामिल होंगे अग्रवाल बंधु व मातृशक्ति