*बदले से नजर आये*

||PAYAM E RAJASTHAN NEWS|| 29-JUNE-2022 || उज्जैन || *बदले से नजर आये" गुमनाम गुमसुम चुप्पी तोड़ो अवसर आया है. नटखट यौवन मधुरस ढाले परिहास लाया है. नव संदेशा ले चले पंछी भोर सवरने लगी जल विहारी बालाएं कनक किरणों सी दिखने लगी. हंसी, ठिठोली प्रेम बरसता फिर अपने रांझे को मिली. बतियाती आंखें आंखों से दिखती खिली खिली. शाम ढले लहरें नाचती मौसम मदिराया आया है चिर प्यासा छला चकौर बहलाने आया है। संगीत सजी टहनियां पत्ते ताल बजाते जाएं दम भर सुस्ताने संदेशे बदले से नजर आए।आरोह-अवरोह ढली यादें और मुखर हुई। नियति के भरोसे नयिका मन ही मन सुधर हुई। छ्नकी पायल चूड़ियों संग कोना-कोना हर्षाया है झर झर झरता झरणा किलोल करता पाया। जगमोहन सजग तराना जिला उज्जैन मध्यप्रदेश

Comments

Popular posts from this blog

गुलाम दस्तगीर कुरैशी की पुत्री मनतशा कुरैशी ने 10 वीं बोर्ड में 92.8 प्रतिशत अंक प्राप्त कर किया नाम रोशन

अजमेर उत्तर के दो ब्लॉकों की जम्बो कार्यकारिणी घोषित

विवादों के चलते हों रही अनमोल धरोहर खुर्द बुर्द व रिश्ते तार तार