पुष्कर से मेड़ता एंव अजमेर-कोटा वाया नसीराबाद, केकडी नवीन रेल लाईन हेतु राज्य सरकार भेजे रेल मंत्रालय को आवश्यक सहमति.--सांसद भागीरथ चौधरी

||PAYAM E RAJASTHAN NEWS|| 21-FEB-2022 || अजमेर || हीरालाल नील----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- अजमेर सांसद भागीरथ चौधरी ने गत 2 वर्षो में प्रदेश एंव संसदीय क्षेत्र की 2 महत्वपूर्ण रेल परियोजनाओं यथा पुष्कर से मेडता एंव अजमेर से कोटा वाया नसीराबाद , केकडी की सक्षम स्वीकृति हेतु निरन्तर रेल मंत्री से पत्राचार एंव ससंद के विभिन्न सत्रों में संसदीय कार्यप्रणाली के तहत उक्त मुद्दो पर सदन में मांग उठाई लेकिन राज्य सरकार की उदासिनता एंव निष्क्रियता के चलते उक्त दोनो महत्वपूर्ण रेल परियोजना आज दिनांक तक ठण्डे बस्ते में है। सांसद चौधरी ने प्रदेश के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत एंव मुख्य सचिव उषा शर्मा को पत्र लिखकर प्रदेश के दोनों नवीन रेल मार्गो हेतु व्यापक सकारात्मक सोच एंव दोनो रेल घोषणाओं को मूर्त रूप प्रदान करते हुये राज्य सरकार लागत का 50 प्रतिशत हिस्सेदारी देने एवं आवश्यक निशुल्क भूमि उपलब्ध कराने की महत्वपूर्ण घोषणा राज्य बजट 2022 में ं सम्मिलित करातें हुये आवश्यक सहमति/प्रस्ताव रेल मंत्रालय नई दिल्ली को भिजवाने की मांग की है। सांसद चौधरी ने पत्र के माध्यम से राज्य सरकार को अवगत कराया कि संसदीय क्षेत्र अजमेर के अधीन पुष्कर एक बहुत ही महत्वपूर्ण, विश्व प्रसिद्व धार्मिक एंव तीर्थ नगरी है, जहंा पर प्रतिदिन देश-विदेश से हजारो की संख्या में लोगों का आना जाना बना रहता है, पूर्व रेल बजट में केन्द्र सरकार नें पुष्कर (अजमेर) से मेडता (नागौर) लगभग 59 कि.मी. तक रेल लाईन द्वारा जोडने के लिये इस प्रोजेक्ट को रेल परियोजनाओं बजट वर्ष 2013-14 में सम्मलित किया गया था। इस महत्वपूर्ण रेल लाईन को जोडने के लियेे काफी वर्षों से अजमेर एंव नागौर के वाशिंदो एंव धर्मावलम्बियों द्वारा मंाग की जा रही थी। यदि उक्त रेल लाईन का शीघ्र निर्माण हो जाये तो मेडता से पुष्कर रेल लाईन के जुडने पर सम्पूर्ण उत्तरी भारत का अजमेर व गुजरात से रेल यातायात का सीधा सम्पर्क हो जायेगा। वहीं दूसरी और अजमेर से पश्चिमी राजस्थान के प्रमुख रेल्वे स्टेशन जोधपुर, जैसलमेर, नागौर, बीकानेर, आदि का सीधा रेल मार्ग आमजन को उपलब्ध हो जायेगा जिससे अनावश्यक समय एंव धन की बचत होगी। इसी प्रकार अजमेर से कोटा वाया नसीराबाद, केकड़ी, देवली, चौथ का बरवाडा होते नवीन रेल मार्ग (लगभग 165 किमी दूरी) की स्थापना की मांग गत 20-22 वर्षों से जन प्रतिनिधियों एवं आमजन द्वारा की जा रही है। और उक्त रेल मार्ग की स्थापना की घोषणा पूर्व रेल बजट वर्ष 2013-14 में होने के पश्चात भी अभी तक मूर्त रुप नहीं दिये जाने से अजमेर, टोंक-सवाईमाधोपुर एवं कोटा संसदीय क्षेत्र के विधानसभा क्षेत्र नसीराबाद, केकड़ी, देवली, बून्दी, हिण्डोली एवं कोटा के वाशिन्दों, स्थानीय व्यापारियों एवं उद्यमियों में रोष व्याप्त हो रहा है और आये दिन इन क्षेत्रों में उक्त रेलमार्ग के निर्माण हेतु धरने प्रदर्शन एवं ज्ञापन दिये जाते रहे हैं। जबकि मार्च 2020 तक उक्त रेल लाईन प्रोजेक्ट कार्य पर 3.13 करोड रूपये व्यय भी हो चुके है। उक्त योजना की लागत राशि लगभग 821 करोड रूपये है अतः पुष्कर से मेडता और अजमेर से कोटा वाया नसीराबाद, देवली, चौथ का बरवाडा होते हुये नवीन रेलमार्ग की स्थापना की स्वीकृति की घोषणा को मूर्त रूप प्रदान कराने हेतु राजस्थान सरकार द्वारा सहमति प्रदान करातें हुये उक्त प्रोजेक्ट की लागत राशि का 50 प्रतिशत हिस्सेदारी एंव निःशुल्क भूमि उपलब्ध कराने की महत्वपूर्ण बजट घोषणा 2022 में सम्मिलित कराते हुये अविलम्ब आवश्यक विभागीय कार्यवाही कराकर प्रस्ताव रेल मंत्रालय नई दिल्ली को भिजवाने का श्रम करावें। ताकि उक्त दोनो महत्वपूर्ण रेल परियोजनाओं को केन्द्र सरकार मूर्त रूप देकर प्रदेश वासियों को सुगम रेल यातायात का समूचित लाभ प्रदान कर सके।

Comments

Popular posts from this blog

विवादों के चलते हों रही अनमोल धरोहर खुर्द बुर्द व रिश्ते तार तार

अग्रसेन जयंती महोत्सव के अंतर्गत जयंती समारोह के तीसरे दिन बारह अक्टूबर को महिला सांस्कृतिक प्रतियोगिताएं संपन्न

पूज्य सिंधी पंचायत और भारतीय सिंधु सभा के संयुक्त तत्वाधान में बाल संस्कार शिविर का आयोजन