प्रभारी मंत्री महेन्द्रजीत सिंह मालवीय को नगर निगम अजमेर में व्याप्त भ्रष्टाचार की शिकायत की

||PAYAM E RAJASTHAN NEWS|| 17-FEB-2022 || अजमेर || हीरालाल नील---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- राजस्थान सरकार के जल संसाधन मंत्री व अजमेर के प्रभारी मंत्री श्री महेन्द्रजीत सिंह मालवीय के अजमेर आगमन पर राजस्थान प्रदेश कांग्रेस सेवादल के प्रदेश मुख्य प्रशिक्षक पूर्व पार्षद शैलेन्द्र अग्रवाल ने सर्किट हाउस में श्री मालवीय का माल्यार्पण कर स्वागत किया। तथा श्री मालवीय को एक ज्ञापन पत्र देकर नगर निगम अजमेर में चरम सीमा पर व्याप्त भ्रष्टाचार की और ध्यान आकर्षित करते हुए दोषी लोगों पर कार्यवाही करने व कई वर्षों से नगर निगम अजमेर में पदस्थापित अधिकारियों के स्थानांतरण की मांग की। इस अवसर पर सर्किट हाउस में पूर्व मंत्री व प्रदेश कांग्रेस उपाध्यक्ष श्रीमती नसीम अख्तर इंसाफ, अजमेर शहर जिला कांग्रेस अध्यक्ष विजय जैन, देहात जिला कांग्रेस अध्यक्ष भूपेन्द्र सिंह राठोड सहित कई कांग्रेसजन मौजूद थे। श्री मालवीय ने सर्किट हाउस में मौजूद निगम उपायुक्त नीतू यादव व सचिव पवन मीणा को शिकायतों पर नाराजगी व्यक्त करते हुए कार्यवाही करने के निर्देश दिये। शैलेन्द्र अग्रवाल ने प्रभारी मंत्री महेन्द्रजीत सिंह मालवीय को दिए गए पत्र में अवगत कराया है कि काफी समय से नगर निगम अजमेर के अधिकारियों, कर्मचारियों, कुछ जनप्रतिनिधियों व उच्चस्तरीय राजनैतिक वरदहस्त प्राप्त भूमाफियाओं की मिलीभगत से शहर में अवैध निर्माण व अतिक्रमण की बाढ़ आयी हुई है। अग्रवाल ने प्रभारी मंत्री मालवीय को दिए पत्र में लिखा है कि कई बार नगरनिगम के अधिकारियों को इस संबंध में शिकायत करने के बावजूद मिलीभगती के कारण काफी समय से अवैध निर्माण, पुराने आवासीय मकानों को तोड़कर उनके स्थान पर बिना सक्षम स्वीकृति के व्यावसायिक कॉम्प्लेक्स का निर्माण, नगर निगम की जमीन पर कब्जा करके अवैध निर्माण आदि किये जा रहे हैं इस संबंध में की गयी शिकायतों पर नगर निगम द्वारा कोई कार्यवाही करने के बजाय उन शिकायती पत्रों को ही गायब कर दिया जाता है और सूचना के अधिकार के तहत शिकायती पत्रों पर की गई कार्यवाही की जानकारी चाहने पर उसका भी कोई जवाब नही देकर *सूचना का अधिकार* कानून का भी मखौल उड़ाया जा रहा है। अग्रवाल ने पत्र में लिखा है कि पूर्व में स्वायत्त शासन विभाग के शासन सचिव व माननीय राजस्थान उच्च न्यायालय ने भी आदेश जारी कर अवैध निर्माण, अतिक्रमण और बिना सक्षम स्वीकृति के व्यवसायिक निर्माण कार्य किये जाने के मामले में दोषी अधिकारियों व कर्मचारियों के खिलाफ भी कार्यवाही करने के निर्देश प्रदान किये हैं परंतु आज तक इनके खिलाफ कोई कार्यवाही नही होने के कारण अवैध निर्माण व अतिक्रमण करने वालों के हौंसले बुलन्द होते जा रहे हैं। अग्रवाल ने पत्र में लिखा है कि गत कुछ समय में अजमेर नगर निगम क्षेत्र के मूंदड़ी मौहल्ला, खारी कुई, आर्य समाज चौक, डिग्गी बाजार, झूला मौहल्ला, पुरानी मंडी, दरगाह बाजार, धानमंडी, लाखन कोटड़ी, नला बाजार, वैशालीनगर, रामनगर आदि क्षेत्रों में नगर निगम अधिकारियों, जनप्रतिनिधियों व भूमाफियाओं की मिली भगत से काफी तादाद में व्यावसायिक निर्माण कार्य हुए हैं व अभी भी बेरोकटोक चल रहे हैं। बिना सक्षम स्वीकृति के या आवासीय स्वीकृति की आड़ में हो रहे व्यवसायिक भवनों के निर्माण कार्य में नगर निगम के बिल्डिंग बायलॉज की भी खुले आम धज्जियां उड़ाई जा रही है, ना तो इन व्यावसायिक भवनों में पार्किंग स्पेस छोड़ा जा रहा हैं, ना ही फायर सेफ्टी आदि का इंतजाम किया जा रहा है। पार्किंग के नाम पर बेसमेंट बनाकर बाद में उसका भी व्यावसायिक उपयोग किया जा रहा है। शैलेन्द्र अग्रवाल ने प्रभारी मंत्री श्री मालवीय से मांग की है कि इस संबंध में उचित कार्यवाही कर नगर निगम अधिकारियों, कर्मचारियों, जनप्रतिनिधियों व भूमाफियाओं की मिलीभगत से हो रहे अवैध निर्माण कार्यों पर रोक लगाते हुए उचित कार्यवाही करने के निर्देश प्रदान करें तथा काफी समय से नगर निगम अजमेर में जमे अधिकारियों का यहां से अन्यत्र स्थानांतरण किया जाये वरना कांग्रेस सेवादल के कार्यकर्ताओं को नगर निगम में व्याप्त भ्रष्टाचार के खिलाफ आंदोलन करना पड़ेगा।

Comments

Popular posts from this blog

सदर थाना पुलिस को मिली बड़ी कामयाबी अंतर्राज्य गैंग के 6 आरोपी को किया गिरफ्तार

स्टूडेंट्स मैराथन दौड़ का हुआ आयोजन

अखिल भारतीय अग्रवाल सम्मेलन, महिला शाखा कार्यकारिणी की बैठक व दीपावली स्नेह मिलन समारोह संपन्न