कांग्रेस द्वारा जयपुर में आयोजित महंगाई विरोधी महारैली में कांग्रेस सेवादल के राजस्थान सहित देश भर से हजारों वर्दीधारी पदाधिकारी व कार्यकर्ता हुए शामिल रैली की व्यवस्थाओं को सम्हालने की महत्वपूर्ण जिम्मेदारी भी निभाई

||PAYAM E RAJASTHAN NEWS|| 12-DEC-2021 || अजमेर || हीरालाल नील --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी द्वारा रविवार को जयपुर में आयोजित महंगाई विरोधी महारैली में कांग्रेस सेवादल के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री लालजी देसाई व राजस्थान प्रदेशाध्यक्ष श्री हेमसिंह शेखावत के नेतृत्व में हजारों की संख्या में सेवादल के वर्दीधारी पदाधिकारी व कार्यकर्ता शामिल हुए इस रैली में जहां देश के अनेक प्रदेशों से सेवादल के पदाधिकारी शामिल हुए वहीं राजस्थान के प्रत्येक जिले से सेवादल के कार्यकर्ताओं ने भारी संख्या में हिस्सा लिया। रैली की व्यवस्थाओं के लिए सेवादल को दी गयी विभिन्न जिम्मेदारियों को भी उन्होंने बखूबी निभाया जिसकी कांग्रेस के बड़े नेताओं ने सराहना की। राजस्थान प्रदेश कांग्रेस सेवादल के प्रदेश मुख्य प्रशिक्षक शैलेन्द्र अग्रवाल ने बताया की रैली में सेवादल के राष्ट्रीय सचिव व राजस्थान प्रभारी श्रीमती मधु गुरंग, श्री प्रकाश भरतिया, श्री विष्णु शर्मा सहित सभी राष्ट्रीय पदाधिकारीगण, विभिन्न प्रदेशों के प्रदेशाध्यक्ष एवं सेवादल के प्रशिक्षित वरिष्ठ कार्यकर्ता भी शामिल हुए। सेवादल के कार्यकर्ताओं ने रैली स्थल पर हाथों में तिरंगे झंडे व महंगाई विरोधी नारे लिखी तख्तियां ले रखी थी, सेवादल के साथी जोर शोर से नारे लगा रहे थे "पहले लड़े थे गौरों से, अब लड़ेंगे चोरों से", "मोदी तेरे शासन में, आग लगी है राशन में", "बहुत हुई महंगाई की मार, नही चाहिए मोदी सरकार", "देश का झंडा तिरंगा,नही चलेगा दुरंगा" "वो दंगों के दंगाई है, हम शांति के सिपाही है" सहित कई नारों से रेलीस्थल को गुंजायमान कर दिया।

Comments

Popular posts from this blog

विवादों के चलते हों रही अनमोल धरोहर खुर्द बुर्द व रिश्ते तार तार

अग्रसेन जयंती महोत्सव के अंतर्गत जयंती समारोह के तीसरे दिन बारह अक्टूबर को महिला सांस्कृतिक प्रतियोगिताएं संपन्न

23 जुलाई रविवार को जयपुर में होने वाले अग्र महाकुंभ में अजमेर से भारी संख्या में शामिल होंगे अग्रवाल बंधु व मातृशक्ति