बाँसवाड़ा जिले में मेवाड़ की स्वतंत्रता के लिए जीवन पर्यन्त रणभूमि डटे रहने वाले राजस्थान के वीर योद्धा महाराणा प्रताप की 2.5 टन वजनी, अष्ट धातु से निर्मित, 15फिट ऊँची विशाल प्रतिमा का अनावरण समारोह मनाया गया।

||PAYAM E RAJASTHAN NEWS|| 19-DEC-2021 || बाँसवाड़ा || हीरालाल नील------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- महाराणा प्रताप की प्रतिमा अनावरण को ऐतिहासिक दिन मनाने के लिए वागड़ क्षत्रिय महासभा की ओर से सर्व समाज को आमंत्रित किया गया। अध्यक्ष राजेन्द्र सिंह ने कहा कि हमे धर्म और संस्कृति को बचाने का संकल्प लेना होगा। हिन्दू धर्म पर गर्व करने से सम्बंधित इतिहास की गई कही महत्वपूर्ण बाते थी जिसे कुछ लोगो ने साजिशन हमारे देश की शिक्षा व्यवस्था से गायब करदी। मुख्य अतिथि जैन सन्तो द्वारा आज हमारे देश में उपनिषद, वेदों सहित मुख्य धर्म ग्रंथो की जानकारी ही नही है। उन्होंने वर्तमान राजनीति पर तंज कसते हुहे कहा कि राजनेताओं को वोट चाइये उन्होने हिन्दुओ को जातियों में बांट दिया। अब हम बात करे हमारे प्रातः स्मरणीय वीर शिरोमणि महाराणा प्रताप की तो उनका नाम आज भी मातृ भूमि की रक्षा, बलिदान वह शौर्य में सबसे पहले लिया जाता है वागड़ क्षेत्रीय समाज के अध्यक्ष राजेन्द्र सिंह पधारे हुहे अतिथियो का स्वागत सत्कार किया ।आभार बाँसवाड़ा महारावल साहब द्वारा किया गया। उध्बोधन वागड़ क्षत्रिय महासभा के महासचिव द्वारा किया गया *समारोह में मुख्य अतिथि - आदरणीय गजेन्द्र सिंह जी शेखावत (केबिनेट मंत्री भारत सरकार* ) सह मुख्य अतिथि - रघुराज प्रताप सिंह(राजा भैया) विधायक उ.प. *विशिष्ट अतिथि* - प्रताप सिंह जी खाचरियावास (केबिनेट मंत्री राजस्थान सरकार), लोकेन्द्र सिंह जी कालवी(करणी सेना संस्थापक) महेन्द्र जीत सिंह मालवीया(केबिनेट मंत्री, रा. सरकार) अर्जुन सिंह बामनिया ( राज्य मंत्री रा. सरकार) कनकमल कटारा (सांसद लोकसभा) संरक्षक महारावल जगमाल सिंह बाँसवाड़ा एवं अनेक राजनैतिक राजनायको के साथ सर्व समाज के बन्धु उपस्थित थे । जिनका वागड़ क्षेत्रीय महासभा ने आभार व्यक्त किया। पंडित दिव्य भारत द्वारा मंत्रोच्चार के साथ विधि विधान से विशिष्ठ अतिथियों द्वारा विशाल वीर शिरोमणि महाराणा प्रताप की प्रतिमा का अनावरण किया।

Comments

Popular posts from this blog

विवादों के चलते हों रही अनमोल धरोहर खुर्द बुर्द व रिश्ते तार तार

अग्रसेन जयंती महोत्सव के अंतर्गत जयंती समारोह के तीसरे दिन बारह अक्टूबर को महिला सांस्कृतिक प्रतियोगिताएं संपन्न

पूज्य सिंधी पंचायत और भारतीय सिंधु सभा के संयुक्त तत्वाधान में बाल संस्कार शिविर का आयोजन