जगतपिता ब्रह्मा की नगरी पुष्कर की सुरक्षा चाक-चौबन्द करे पुलिस प्रशासन : रावत

||PAYAM E RAJASTHAN NEWS|| 13-OCT-2021 || अजमेर || रिपोर्ट हीरालाल नील------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- पुष्कर विधायक एवं पूर्व संसदीय सचिव सुरेश सिंह रावत ने एसपी को पत्र में लिखा कि, जैसा कि, दैनिक समाचार पत्रो के अनुसार दिल्ली पुलिस ने 11 अक्टूबर को जम्मू कश्मीर में आतंकी वारदातों में लिप्त ऐसे पाकिस्तानी आतंकी मोहम्मद अशरफ अली को गिरफ्तार किया हैं जो सम्राट पृथ्वीराज चौहान की नगरी अजमेर की एक मस्जिद में दरवेश (धर्मगुरू) बनकर दो वर्ष तक रहा। किसी को इस बात की भनक तक नहीं लगी कि वह दरवेश के भेष में आतंकी हैं। इसे हम पुलिस प्रशासन की लचर व्यवस्था ही कहे तो कोई अतिशयोक्ति नहीं होगी, क्योंकि अजमेर में ख्याजा साहब की दरगाह क्षेत्र से जुड़े देहली गेट में एक मस्जिद में 02 वर्ष तक रहते हुए यह झाड-फूंक का काम भी करता था, लेकिन पुलिस प्रशासन को 02 वर्ष की लम्बी अवधी में भी किसी प्रकार की भनक नहीं लगना बहुत बडी चूक हैं। इसी कडी में यह भी ध्यान रखना जरूरी हैं कि, पूर्व में मुंबई हमलों के आरोपी कोलमैन हेडली द्वारा पुष्कर में इजराइली धर्मस्थल बेदखाबाद की रेकी किये जाना, पुष्कर विधानसभा क्षेत्र के गेगल थाना क्षेत्र में आतंकी मोहम्मद शब्बीर का असला-बारूद के साथ पकडे जाना, इसके बाद भी पुष्कर विधानसभा क्षेत्र के गेगल टोक नाके पर 02 युवकों का हथियार के जखीरो के साथ पकडे जाना और अब आतंकी मोहम्मद अशरफ अली का पकडे जाना इन सभी गतिविधियों का मुख्यबिन्दु कहीं न कहीं इन सभी घटनाओं का आपस में जुड़े होकर समूचे विश्व की धार्मिक आस्था के केन्द्र तीर्थगरू पुष्कर शहर पर आतंकी हमला कर हिन्दुओं की धार्मिक आस्था, पौराणिकता, ऐतिहासिकता, पर्यटिक, पुरातात्विक एवं सांस्कृतिक महत्वता पर तो आघात कर देश की साम्प्रदायिकता एवं अखण्डता को चुनौति देना प्रतीत हो रहा हैं। अतः विश्व की धार्मिक व पौरणिक, आस्था, सांस्कृतिक व पर्यटिक विशेषता के केन्द्र पुष्कर राज को कोई अधर्मी या आतंकी ताकते किसी भी प्रकार से कोई क्षति ना पहुंचावे इस हेतु तीर्थनगरी की महिमा एवं महत्व के प्रति संवेदनशील होकर संपूर्ण पुष्कर शहर एवं पुष्कर शहर में प्रवेश करने वाले सभी मार्गों के मुख्य केन्द्रो जिनमें संपूर्ण अजमेर शहर गेगल टोल नाका, पुष्कर मेडता हाहवे टोल नाका, पुष्कर अजमेर मार्ग जनाना तिराहा जैसे महत्वपूर्ण पोईंटो पर पुलिस बल, डिजीटल सुरक्षा सिस्टम, सोशल मीडिया प्रबंधन जैसी सपूर्ण आवश्यक चाक-चौबंद सुरक्षा व्यवस्था कर संपूर्ण विश्व का अभिमान जगतपिता ब्रह्मा की नगरी पुष्कर एवं सम्राट पृथ्वीराज चौहान की नगरी अजमेर में किसी भी प्रकार की अनहोनी एवं आतंकी घटनाएं घटित होने को रोकने का पुख्ता प्रबंधन करावें।

Comments

Popular posts from this blog

विवादों के चलते हों रही अनमोल धरोहर खुर्द बुर्द व रिश्ते तार तार

अग्रसेन जयंती महोत्सव के अंतर्गत जयंती समारोह के तीसरे दिन बारह अक्टूबर को महिला सांस्कृतिक प्रतियोगिताएं संपन्न

पूज्य सिंधी पंचायत और भारतीय सिंधु सभा के संयुक्त तत्वाधान में बाल संस्कार शिविर का आयोजन