पुलिस मित्र की टीम ने अपनी जान जोखिम में डालकर नाग पहाड़ की पहाड़ियों पर रास्ता भटक तीन युवकों को देर रात रेस्क्यू करके सुरक्षित निकाला

||PAYAM E RAJASTHAN NEWS|| 06-OCT-2021 || अजमेर || रिपोर्ट हीरालाल नील--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- तीर्थ नगरी पुष्कर में हर पल हर वक्त अपनी जान जोखिम में डालकर निस्वार्थ भावना से सेवाएं दे रही पुलिस मित्र टीम ने देर रात्रि में नाग पहाड़ की पहाड़ियों पर रास्ता भटके 3 युवकों को सुरक्षित निकाला जानकारी के अनुसार बीती रात पुष्कर के पुलिसमित्र टीम के रेपिड रेस्पॉन्स यूनिट के जवानों ने पहाड़ की चोटी पर बचाव अभियान चलाया. पहाड़ी की खाई में तीन पर्यटक फंसे हुए थे, उन सभी पर्यटकों को सुरक्षित निकाला गया. पुलिस मित्र टीम के जवान अपनी बहादुरी के लिए जाने जाते हैं. उन्होंने फिर से इसका परिचय देते हुए बीती रात पुष्कर के दुर्गम पहाड़ियों में फंसे 3 युवाओं को सुरक्षित बाहर निकाला । अरावली पर्वत पर बने अगस्त मुनि की गुफा से ऊपर पहाड़ की चोटी पर अंधेरा होने के कारण रास्ता भटक कर गहरी खाई में अजमेर व कोटा के तीन पर्यटक फंस गए ,।मंगलवार देर शाम 7:30 बजे तीनो युवकों के फंसे होने की सूचना मिलते ही तीर्थनगरी में आपदा प्रबंधन में दक्ष , सभी तरह के रेस्क्यू ऑपरेशन को सफलता के साथ अंजाम देने वाले पुलिसमित्र टीम को पुष्कर पुलिस व वनविभाग के अधिकारियों ने सम्पर्क किया व पहाड़ी की चोटी पर दुर्गम खाई में तीन युवको के फंसे होने की सूचना दी । मामले की गम्भीरता को देखते हुए पुष्कर थानाधिकारी महावीर शर्मा के कुशल निर्देशन में पुलिसमित्र टीम के इंचार्ज अमित भट्ट के नेतृत्व में रेपिड रेस्पॉन्स यूनिट के रेस्क्यूएर्स राजेन्द्र वच्चानी, सांवरा शर्मा, मुकेश देवड़ा, अजय नाथ, मनीष कुमावत, हीरालाल मीणा,अभिषेक शर्मा, दिनेश चांवला, सुनील बाकोलिया, मुकेश सेन, युवराज सैनी, राजेन्द्र पंवार, मदन नायक, हिमांशु मौर्य, समेत वनकर्मी भवँर सिंह बिना समय गंवाए रेस्क्यू के लिए रवाना हो गए। अगस्त मुनि की पहाड़ी के रास्ते पहाड़ की चोटी जाने के दौरान टीम के जवानों ने उनसे फोन पर सम्पर्क करने की कोशिश की परन्तु दुर्गम पहाड़ी क्षेत्र होने के कारण व मोबाइल सिग्नल नही मिलने के कारण रेस्क्यू करने में मुश्किलें ओर बढ़ गई । टीम के अनुभवी रेस्क्यूएर्स ने मोबाइल की लाइट को आधार मानकर लगभग एक घण्टे में दुर्गम रास्तो से होते हुए पहाड़ की चोटी पर पहुँचे परन्तु पर्यटकों की सही लोकेशन का पता नहीं चल पाया । रात्रि में जोर से आवाज लगाकर सम्पर्क साधने की कोशिश की गई । रेस्क्यू टीम को दो हिस्सों में बाटकर युवकों को खोजने का कार्य आरंभ किया गया , जगह जगह टीम द्वारा रास्ता पहचाने हेतु मार्क बनाये गए ताकि लौटने के दौरान रास्ता नही भटके । करीब आधे घण्टे में ही पुलिसमित्र टीम के बचाव दल ने दुर्गम पहाड़ी की खाई में युवकों को फंसा हुआ पाया । बचाव दल ने बिना समय गंवाए दुर्गम खाइयो को पार करके तीनो युवकों तक पहुचकर उन्हें सुरक्षित बचा लिया । पहाड़ की चोटी से आ रही हाड़ कंपा देने वाली ठंडी हवाओं से उनका बुरा हाल कर दिया था । तीनो युवक बेहद डरे हुए थे व कई घंटों से प्यासे थे जिन्हें पुलिसमित्र टीम ने पानी पिलाया व विश्वास दिलाया कि जल्द ही उन्हें सुरक्षित उतार लिया जाएगा । तीनो युवकों से पूछताछ के दौरान पता चला कि कोटा व अजमेर के ये युवक मंगलवार सुबह अजमेर से अगस्तमुनि व राजा भर्तहरि के आश्रम घूमने हेतु पहाड़ी पर घूमने निकले थे। जब वे अगस्तमुनि से भर्तहरि की पहाड़ी वाले रास्ते की ओर निकले तो रास्ता भटक गए। दुर्गम रास्ता , लंबी कांटेदार झाड़ियां व अंधेरा होने के कारण नागपहाड़ी पर रास्ता ढूंढने के लिए वे आगे-आगे निकलते गए और वापसी पर रास्ता भटक गए। इन्हें यह पता भी नहीं चल पाया कि इनकी लोकेशन कहा है । जंगली जानवरों की आवाजे आने के कारण व अंधेरे के कारण कुछ भी दिखाई नही देने की वजह से तीनों युवक बेहद डर गए व खाई में फंस गए । जहां से कुछ भी नजर नही आ रहा था ।बताया जा रहा है कि पहाड़ी में फंसे युवकों में से एक तरुण का संपर्क अपने घर हुआ। इसके बाद ही जिला प्रशासन को भी इस बारे में पता चल पाया। युवकों के परिजन भी इन्हें ढँढ़ने पहाड़ी के नीचे तक आ गए परन्तु रास्ता दुर्गम होने व जंगली जानवरों का खतरा होने के कारण वे हिम्मत नही जुटा पाए । पुलिसमित्र की रेपिड रेस्पॉन्स यूनिट व वनकर्मी भंवर सिंह ने पांच घण्टे के अथक प्रयासों के बाद तीनों युवकों को रात्रि 1 बजे सुरक्षित नीचे उतार लिया । परिजनों ने भी पुलिसमित्र टीम के बचाव दल के रात्रि में इतने कठिन रेस्क्यू की खूब तारीफ की व युवकों को सकुशल नीचे लेकर आने पर आभार प्रकट किया । पुलिस मित्र टीम के इस कार्य की सभी लोगों ने काफी सराहना की

Comments

Popular posts from this blog

क़ुरैश कॉन्फ्रेंस रजिस्टर्ड क़ुरैश समाज भारत की अखिल भारतीय संस्था द्वारा जोधपुर में अतिरिक्त जिला कलेक्टर दीप्ति शर्मा को मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन सौप कर सूरसागर में आये दिन होने वाले सम्प्रदायिक दंगों से हमेशा के लिये राहत दिलाने की मांग की गई है।

विवादों के चलते हों रही अनमोल धरोहर खुर्द बुर्द व रिश्ते तार तार

अग्रसेन जयंती महोत्सव के अंतर्गत जयंती समारोह के तीसरे दिन बारह अक्टूबर को महिला सांस्कृतिक प्रतियोगिताएं संपन्न