राजगढ़ धाम पर हुई घट-स्थापना

||PAYAM E RAJASTHAN NEWS|| 07-OCT-2021 || अजमेर || रिपोर्ट हीरालाल नील ------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------ .राजगढ़ ग्राम स्थित श्री मसाणिया भैरव धाम पर प्रातः मुख्य उपासक चम्पालाल महाराज ने माँ काली व बाबा भैरवनाथ की पूर्जा-अर्चना कर सभी देवी-देवताओं की साक्षी में पूरे विधि विधान से अखण्ड ज्योति प्रज्जवलित कर घटस्थापना की। अखण्ड ज्योति एकम् से प्रारम्भ होकर नवमीं तक चलेगी जिसका समापन दशमी को होगा। धाम के प्रवक्ता अविनाश सेन ने बताया कि शारदीय नवरात्रा में श्रद्धालुओं के लिए धाम पर किसी प्रकार का कोई आयोजन नहीं रखा है। मुख्य उपासक चंपालाल महाराज द्वारा विधिवत 10 दिनों तक की अखंड ज्योति प्रज्वलित की हुई है जिसमें महाराज व उनके परिवार के सदस्यों के द्वारा ही पूजा अर्चना की जा रही है साथ ही केन्द्र व राज्य सरकार द्वारा जारी की गई कोविड-19 की गाइडलाइन की पूर्ण पालना करते हुए शारदीय नवरात्रा के नौ दिनों तक दिनांक 7 अक्टूबर 2021 से 15 अक्टूबर 2021 तक धाम पर मनाया जाएगा। घटस्थापना के समय व्यवस्थापक ओमप्रकाश सैन, रमेश सेन, ताराचंद, अविनाश सैन, केप्टन मुकेश सेन, राहुल सैन के साथ कपिल, यश, मिलन, युवराज, वैभव, भव्य, मिताली, वंशीका, बुलबुल आदि मौजूद रहे। *ग्रामवासियों ने चढ़ाए झण्डे* घटस्थापना के शुभअवसर पर ग्राम पंचायत राजगढ के देवपुरा, चैनपुरा, चाट, सरदारपुरा, नयागांव, बिठूर, मातामंगरी के ग्रामवासियों ने चक्की वाले बाबा से मुख्य मंदिर मनोकामनापूर्ण स्तम्भ तक डीजे की धुन पर गाजे-बाजे के साथ नाचते-गाते पहुँचकर बाबा भैरव व माँ कालिका के श्रीचरणों में झण्डे चढ़ाए। तत्पश्चात सभी ग्रामवासियों की ओर से चम्पालाल महाराज का 51 किलो की माला, साफा, शाॅल ओढ़ाकर स्वागत सत्कार किया गया जिसमें नारायण गुर्जर, रामदेव सिंह रावत, कुलदीप, मेघराज, सुरेन्द्र गुर्जर, सलीम, रामकरण, बलराम आदि उपस्थित रहे।

Comments

Popular posts from this blog

क़ुरैश कॉन्फ्रेंस रजिस्टर्ड क़ुरैश समाज भारत की अखिल भारतीय संस्था द्वारा जोधपुर में अतिरिक्त जिला कलेक्टर दीप्ति शर्मा को मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन सौप कर सूरसागर में आये दिन होने वाले सम्प्रदायिक दंगों से हमेशा के लिये राहत दिलाने की मांग की गई है।

विवादों के चलते हों रही अनमोल धरोहर खुर्द बुर्द व रिश्ते तार तार

अग्रसेन जयंती महोत्सव के अंतर्गत जयंती समारोह के तीसरे दिन बारह अक्टूबर को महिला सांस्कृतिक प्रतियोगिताएं संपन्न