अजमेर रेलवे अस्पताल की उपलब्धि ,रेलवे अस्पताल में दो बड़े ऑपरेशन सफलतापूर्वक किये गए

विगत मंगलवार को रेलवे अस्पताल अजमेर में अस्पताल के डॉक्टर राजकुमार मीना व उनकी टीम द्वारा द्वारा ऑर्थो मॉड्यूलर ऑपरेशन थिएटर में 2 जटिल ऑपरेशन सफलतापूर्वक गए| रेलवे से सेवानिवृत फिटर 70 वर्ष के बुजुर्ग पुरुष रोगी के बाएं घुटने के जोड़ का पहला सम्पूर्ण घुटना प्रत्यारोपण किया गया जो की पिछले 4 वर्षों से दर्द और चलने में कठिनाई महसूस कर रहे थे साथ ही वे अनियंत्रित मधुमेह और उच्च रक्तचाप से भी पीड़ित थे। इसी प्रकार पॉइंट्समैन के पद पर कार्यरत 28 साल के युवा वयस्क पुरुष के बाएं कूल्हे के जोड़ का टोटल हिप रिप्लेसमेंट किया गया जो गत 3 साल से कुल्हे में दर्द और दुर्बलता से पीड़ित थे | दोनों मामलों को डॉ. राजकुमार द्वारा बहुत अच्छी तरह से संचालित किया गया | ऑपरेशन के दौरान डॉ. प्रिया द्वारा दी गई संयुक्त स्पाइनल एपिड्यूरल एनेस्थीसिया और सम्पूर्ण ऑपरेशन थिएटर टीम बेहतर आपसी समन्वय व सहयोग दर्शाया गया । यह रेलवे अस्पताल आने वाले लाभार्थियों के लिए बहुत मददगार होगा जिन्हें पहले रेलवे के बाहर रेफर किया जाता था और जिसके लिए रेलवे को निजी अस्पतालों को भुगतान करना होता था | रेलवे अस्पताल में बुनियादी ढांचे और सुविधाओं में सुधार तथा नवीनतम चिकित्सा संचालन उपकरण के फलस्वरूप इस प्रकार की सर्जरी संभव हो पाई है | महाप्रबंधक उत्तर पश्चिम रेलवे विजय शर्मा तथा मंडल रेल प्रबंधक नवीन कुमार परसुरामका द्वारा विशेष पहल करते हुए अस्पतालों के विकास के लिए पर्याप्त धनराशि उपलब्ध कराई गई जिससे रेलवे अस्पताल में सुविधाओं में वृद्धि होने से मरीजों को आधुनिक संसाधनों से बेहतर इलाज उपलब्ध किया जाना संभव हुआ है मुख्य चिकत्सा अधीक्षक पी सी मीना द्वारा भी व्यक्तिगत रूप से मरीजों की आवश्यक जरूरतों सहित सभी सेवाओं की निगरानी की जाती है | इस कारण से रेलवे अस्पताल स्टाफ भी तत्परता व समर्पण भाव से रेलवे अस्पताल के मरीजों की सेवा व इलाज में जुटे है |

Comments

Popular posts from this blog

विवादों के चलते हों रही अनमोल धरोहर खुर्द बुर्द व रिश्ते तार तार

अग्रसेन जयंती महोत्सव के अंतर्गत जयंती समारोह के तीसरे दिन बारह अक्टूबर को महिला सांस्कृतिक प्रतियोगिताएं संपन्न

23 जुलाई रविवार को जयपुर में होने वाले अग्र महाकुंभ में अजमेर से भारी संख्या में शामिल होंगे अग्रवाल बंधु व मातृशक्ति