शार्दुल एवं बालिका उच्च मा. विद्यालय किषनगढ, मंें हो नवीन पदों का सृजन:- सांसद भागीरथ चौधरी*।

||PAYAM E RAJASTHAN NEWS|| 21-FEB-2021 || अजमेर || रिपोर्ट हीरालाल नील ----------------------------- शार्दुल एवं बालिका उच्च मा. विद्यालय किषनगढ, मंें हो नवीन पदों का सृजन:- सांसद भागीरथ चौधरी*। *संस्कृत विषय में अध्ययन की हो स्वीकृति जारी, भूगोल विषय की स्वीकृति हेतु दिया धन्यवाद।* अजमेर सांसद श्री भागीरथ चौधरी ने किशनगढ शहरी क्षेत्र के दो प्रमुख विद्यालयों यथा शार्दुल एवं बालिका उ. मा. विद्यालयों के लिये नांमाकन के आधार पर समूचित एवं समग्र शिक्षा अध्ययन का लाभ छात्र-छात्राओं को मिले इस हेतु प्रदेश के शिक्षा मंत्री श्री गोविन्द सिंह डोटासरा एवं निदेशक माध्यमिक शिक्षा, बीकानेर को पत्र लिख कर नवीन पदों के सृजन के साथ-साथ एच्छिक विषय संस्कृत मंे अध्ययन की स्वीकृति आगामी शैक्षणिक सत्र 2021-22 में जारी कराने हेतु पत्र लिखा। एवं बालिका किशनगढ में गत वर्ष अगस्त माह में भूगोल एवं संस्कृत विषय में अध्ययन की स्वीकृति हेतु लिखे पत्र पर क्रियान्विति कर भूगोल विषय की स्वीकृति गत दिनों जारी कराने पर धन्यवाद भी दिया । सांसद श्री चौधरी ने पत्र के माध्यम से अवगत कराया कि संसदीय क्षेत्र अजमेर के विधानसभा क्षेत्र किषनगढ में स्थित राजकीय शार्दुल उच्च माध्यमिक विद्यालय किषनगढ, अजमेर में वर्तमान में लगभग 850 छात्र-छात्रायें अध्यनरत है। यह विधालय शहरी क्षेत्र किशनगढ के मध्य में स्थित होने से आस पास के सभी निजी एवं राजकीय प्राथमिक एवं उच्च प्राथमिक विद्यालयों के छात्र-छात्रायें अध्यन हेतु प्रवेश लेते है। वर्तमान में विद्यालय में कक्षा 1 से 12 तक कक्षायें संचालित है। लेकिन नामांकन को दृष्टिगत रखते हुये यहां स्वीकृत एवं कार्यरत स्टाफ पर्याप्त नहीं है। जिसके चलते विद्यार्थीओं को समुचित अध्ययन का लाभ नहीं मिल पा रहा है। *अतः उक्त शार्दुल विद्यालय में नांमाकन को दृष्टिगत रखते हुये लेवल-2 गणित एवं विज्ञान के 01-01 पद, वरिष्ठ अध्यापक अंग्रेजी एवं हिन्दी के 01-01 पद, व्याख्याता अंग्रेजी का 01 पद, प्रयोगशाला सहायक के 02 पद, वरिष्ठ सहायक एवं चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी के 01-01 पद शाला पोर्टल की नामंाकन एवं एसडीएमसी के प्रस्ताव की प्रति का अवलोकन कर सृजित करावें।* इसके साथ ही किषनगढ में स्थित राजकीय बालिका उच्च माध्यमिक विद्यालय किषनगढ, अजमेर सम्पूर्ण जिले में सर्वाधिक अध्ययनरत छात्राओं का विद्यालय है जहां पर लगभग 1500 छात्राएं अध्ययनरत है। पिछले काफी समय में स्थानीय एवं ग्रामीण क्षेत्र से आने वाले अध्ययनरत छात्राओं द्वारा कक्षा 10 उत्तीर्ण करने के पश्चात् वैकल्पिक विषय में संस्कृत में अध्ययन करना चाहती है। लेकिन विद्यालय प्रषासन द्वारा संस्कृत विषय स्ववित्त पोषित योजनान्तर्गत चलाने से निर्धन छात्राओं पर अनावष्यक आर्थिक भार पड़ने के चलते मजबूरन अध्ययन से वंचित होना पड़ रहा है और छात्राओं को मजबूरीवष अन्य विषय का चयन कर अध्ययन करना पड़ रहा है। जबकि गत वर्षो में विद्यालय विकास एवं प्रबन्धन समिति की बैठकों में भी बार बार भूगोल विषय एवं संस्कृत विषय में नियमित अध्ययन हेतु प्रस्ताव पारित कर जन प्रतिनिधियों के माध्यम से विभाग एवं आपको भिजवाए गए है। जिसकेे फलस्वरुप आपने हाल ही भूगोल विषय में अध्ययन की स्वीकृति तो जारी कर दी है। लेकिन संस्कृत विषय में अध्ययन की समस्या जस की तस है। *अतः राजकीय बालिका उच्च माध्यमिक विद्यालय किषनगढ, अजमेर हेतु छात्राओं के हित में संस्कृत विषय में भी नियमित अध्ययन हेतु सक्षम स्वीकृति इसी शैक्षणिक वर्ष 2021-2022 में जारी कराते हुए हिन्दी विषय के व्याख्याता के भी आवष्यक पदों का आवंटन कराने हेतु उच्चाधिकारियांे को निर्देषित करावें* ताकि किषनगढ शहरी क्षेत्र की निर्धन एवं मध्यमवर्गीय बालिकाओं को उक्त दोनों विद्यालयांे में वांछित वैकल्पिक विषयों में अध्ययन करने का समुचित एवं समग्र लाभ मिल सके। निजी सचिव सांसद,लोकसभा क्षेत्र, अजमेर

Comments

Popular posts from this blog

विवादों के चलते हों रही अनमोल धरोहर खुर्द बुर्द व रिश्ते तार तार

अग्रसेन जयंती महोत्सव के अंतर्गत जयंती समारोह के तीसरे दिन बारह अक्टूबर को महिला सांस्कृतिक प्रतियोगिताएं संपन्न

23 जुलाई रविवार को जयपुर में होने वाले अग्र महाकुंभ में अजमेर से भारी संख्या में शामिल होंगे अग्रवाल बंधु व मातृशक्ति