#AJMER_NEWS वस्त्र पाकर बच्चों की सूनी आंखों में मैंने रंगीन सपने सजते देखे - पाटनी बच्चे होते है भगवान का रूप-पाटनी झुग्गी झोपड़ियों में रहने वाले एक सौ साठ बच्चों का तन ढका

||PAYAM E RAJASTHAN NEWS|| 12-JUNE-2020 || अजमेर || लायंस क्लब अजमेर आस्था द्वारा तीर्थराज पुष्करराज के पास बसी कालबेलिया बस्ती, ग्राम डुंगरिया खुर्द में मेघवाल बस्ती व आस पास में स्थापित ढाणियों की झुग्गी झोपड़ियों में रहने वाले ऐसे एक सौ साठ मासूम बच्चे जो नंगे बदन इस भीषण गर्मी में अपने परिवार के साथ जीवन बसर कर रहें है को समाजसेवी लायन राकेश पालीवाल,मुम्बई निवासी ज्ञानचंद जी बड़जात्या मरवा वाले,श्रीयांस जी अनिता जी पाटनी व लायन अतुल मधु पाटनी के सहयोग से नए वस्त्र पहनाए गए। लायंस क्लब्स इंटरनेशनल के पूर्व संम्भागीय अध्यक्ष लायन अतुल पाटनी ने इस अवसर पर अपने उदगार में बच्चों को भगवान का रूप बताया व नन्हे मुन्ने बच्चों की सेवा के निमित बनने पर प्रभु की कृपा बताई। उन्होंने कहा कि वस्त्र पाकर बच्चों की सूनी आंखों में मैंने रंगीन सपने सजते देखे। क्लब अध्यक्ष लायन पदमचंद जैन ने बताया कि क्लब इन दिनों अजमेर शहर के स्लम एरिया में रहने वाले जरूरतमन्दों के अलावा पुष्कर के आसपास के ग्राम,ढाणी व स्लम एरिया में बसी कच्ची बस्तियों में सेवा देने को प्रयासरत है इसी कड़ी में आर्यसेवा संमिति के वीरप्रकाश सोनी का वितरण कार्य मे साथ लेते हुए सामाजिक कार्यकर्ता शिक्षिका एवं गाइड कैप्टन श्रीमति रोशन दीप श्रीमाली के संयोजन में गणवेश भेंट की गई। क्लब सचिव लायन अनिलकुमार छाजेड ने बताया कि इस अवसर पर ग्रामीण महिलाओं को मास्क भेंट कर महामारी के बढ़ते प्रकोप के बारे में अवगत कराया। आर्यसेवा संमिति कड़ेल के संयोजक वीरप्रकाश सोनी ने लायंस क्लब अजमेर आस्था के साथियों के प्रति ग्रामवासियों की ओर से आभार ज्ञापित करते हुए बताया कि क्लब की ओर से सोशियल डिस्टेंसिंग को ध्यान में रखकर किये। नए वस्त्र व खाद्यसामग्री व फल आदि पाकर ग्राम में हर्ष की लहर है। लायन अनिलकुमार छाजेड सचिव


Comments

Popular posts from this blog

विवादों के चलते हों रही अनमोल धरोहर खुर्द बुर्द व रिश्ते तार तार

अग्रसेन जयंती महोत्सव के अंतर्गत जयंती समारोह के तीसरे दिन बारह अक्टूबर को महिला सांस्कृतिक प्रतियोगिताएं संपन्न

पूज्य सिंधी पंचायत और भारतीय सिंधु सभा के संयुक्त तत्वाधान में बाल संस्कार शिविर का आयोजन