साहित्यकार राजेश भटनागर की रचना "कपाट बंद"

||PAYAM E RAJASTHAN NEWS|| 16-APR-2020
|| अजमेर ||  साहित्यकार राजेश भटनागर की रचना  कपाट बंद कविता - कपाट बंद


कर लिए हैं ईश्वर ने
अपने दरवाजे बंद
क्योंकि-
रावण ही रावण बचे हैं
रह गए हैं राम चंद ।
असत्य, अधर्म, अहंकार
लोभ-लालच, व्यभिचार ने
बना दिया मानव को दानव
जो करने लगा है तस्करी 
मानव अंगों की ।
धर्म के नाम पर भरमार
यहां दंगों की ।
किराए की कोख तक का
करने लगा है सौदा ।
अबोध बच्चियों तक को
अपनी हवस से इसने रौंदा ।
करने लगा है स्त्री के गर्भ में ही
भ्रूण हत्याएं ।
कोई एक नहीं अनेकों हैं
ईश्वर की व्यथाएं ।
वो नहीं देखना चाहता अब
सूरत इंसान की ।
नहीं रह गई कीमत
जहां ईमान की  ।
प्रतिदिन हत्याएं, ब्लात्कार
छोटी-छोटी मासूमों की चीत्कार
नालियों में बहता पशुओं का 
खून है ।
मानव से ईश्वर बनने का यहां
जुनून है ।
इसीलिए-
कर दिया है उसने सभी को
घरों में नज़रबंद।
और खुद भी बैठ गया है 
करके कपाट बंद ।
          *******


  ©राजेश कुमार भटनागर
       संस्थापक-अध्यक्ष
माँ शकुन्तला देवी साहित्य एवं
      कला परिषद,  अजमेर
        मो. 8949415256


Comments

Popular posts from this blog

विवादों के चलते हों रही अनमोल धरोहर खुर्द बुर्द व रिश्ते तार तार

अग्रसेन जयंती महोत्सव के अंतर्गत जयंती समारोह के तीसरे दिन बारह अक्टूबर को महिला सांस्कृतिक प्रतियोगिताएं संपन्न

पूज्य सिंधी पंचायत और भारतीय सिंधु सभा के संयुक्त तत्वाधान में बाल संस्कार शिविर का आयोजन