अजमेर साहित्य मंच द्वारा राष्ट्रीय ऑन लाईन काव्य गोष्ठी का आयोजन

||PAYAM E RAJASTHAN NEWS|| 28-MAR-2020
||अजमेर|| अजमेर साहित्य मंच के तत्वावधान में लॉक डाऊन का सदुपयोग रचनाधर्मिता के साथ करने के उद्देश्य से संयोजक प्रदीप गुप्ता द्वारा एक राष्ट्रीय ऑन लाईन काव्य गोष्ठी का आयोजन किया गया जिसमें जिसमें अजमेर के अलावा देश के विभिन्न स्थानों के साहित्यकारों ने भी भाग लिया । यह अनूठा कार्यक्रम बहुत हीं सार्थक एवं सफल रहा । 
कार्यक्रम का आगाज़ डा विनीता जैन द्वारा कविता मुझे मालूम है फिर से सवेरा होगा से किया गया । उसके पश्चात युवा कवयित्री अंजान अमन ने एक पंक्ति कम रहेगी तुम्हारे लिये कविता प्रस्तुत की । नई दिल्ली की कवयित्री ने मां के चरणों में अपनी कविता मां कृपा दृष्टि करुणा रस धारा प्रस्तुत की । फतेहगढ़ के कवि विष्णु द्विवेदी ने धार बहे जब अश्रु की करुणा का क्रंदन कहलाया, जयपुर की कवयित्री शिवानी ने जीवन मिला है तो जीने की कला सीख कविता प्रस्तुत की । इसके पश्चात युवा गीतकार गौरव दुबे ने चीख को रोका हुआ है कंठ में हमने दबाकर , वरिष्ठ साहित्यकार  उमेश चौरसिया द्वारा कसकर बांधे रखो रिश्तों की डोर को  , वरिष्ठ ग़ज़लकार गोपाल गर्ग द्वारा फूल गुमसुम उदास है खुशबू , ग़ज़लकार डा बृजेश माथुर द्वारा फूलों को तितली से इतनी रगवत है , बाल साहित्यकार गोविंद भारद्वाज द्वारा लोग हमारे पीछे क्यो हैं , पौराणिक साहित्यकार देव दत्त शर्मा द्वारा अन्य रोगों की तरह  कोरोना भी परास्त होगा , व्यंग्यकार प्रदीप गुप्ता द्वारा व्यंग्य कविता कोरोना स्वाइन फ्लू का भी बाप हैं , कवयित्री सुमन शर्मा द्वारा ख्वाब फिर कोई सजाया जाये , वरिष्ठ हिन्दी एवं मराठी कवयित्री नीलिमा तिग्गा द्वारा हाय हाय ये कोरोना , ग़ज़लकार रजनीश मेसी द्वारा ईन निगाहों में कुछ तो कमी हैं , विनीता बाड़मेरा द्वारा वो औरत जब उकता जाती हैं सपाट जिंदगी से , नलिनी उपाध्याय द्वारा कैसे मुस्करा कर कर ले हर मुश्किल आसान , सुधा मित्तल द्वारा खामोशी की तह में छुप गया सारा संसार , जगदीप कौर द्वारा मानव जीवन की धड़कन है आस  पूर्णिमा शर्मा द्वारा कोरोना बन गया जीवन में अभिशाप एवं काजल खत्री द्वारा तुम्हारी ग़ज़ल में वो खुशबू मेरी है ना आदि रचनाऐं प्रस्तुत कीं ।संयोजक प्रदीप गुप्ता द्वारा कार्यक्रम का संचालन एवं अंत में सभी का आभार प्रकट किया गया ।


Comments

Popular posts from this blog

विवादों के चलते हों रही अनमोल धरोहर खुर्द बुर्द व रिश्ते तार तार

अग्रसेन जयंती महोत्सव के अंतर्गत जयंती समारोह के तीसरे दिन बारह अक्टूबर को महिला सांस्कृतिक प्रतियोगिताएं संपन्न

पूज्य सिंधी पंचायत और भारतीय सिंधु सभा के संयुक्त तत्वाधान में बाल संस्कार शिविर का आयोजन